CBSE Class-12 Exam 2017 : All India Scheme Question Paper, Accountancy

 
Class 12 papers

CBSE Class-12 Exam 2017 : All India Scheme Question Paper, Accountancy

CBSE Class-12 Exam 2017 :  Accountancy (Set-1) 

लेखाशास्त्र
ACCOUNTANCY
निर्धारित समय : ३ घण्टे
Time allowed : 3 hours
अधिकतम अंक : ८०
Maximum Marks : 80
 
खण्ड क
(साझेदारी फर्मों तथा कम्पनियों के लिए लेखांकन)
PART A
(Accounting for Partnership Firms and Companies)
 
१. जमा शेष के आधार पर ‘स्थायी पूँजी खातेङ्क तथा ‘परिवर्तनशील पूँजी खाते के बीच अन्तर स्पष्ट कीजिए । १
Distinguish between ‘Fixed Capital Account’ and ‘Fluctuating Capital Account’ on the basis of credit balance.
 
२. अ तथा ब एक फर्म में साझेदार थे तथा लाभ-हानि ५ : ३ के अनुपात में बाँटते थे । उन्होंने सको एक नया साझेदार बनाया । अ, ब तथा स का नया लाभ सहभाजन अनुपात ३ : २ : ३ था । अ ने अपने लाभ के 1/5 १ भाग को स के पक्ष में त्याग दिया । ब के त्याग की गणना कीजिए । १
A and B were partners in a firm sharing profits and losses in the ratio of 5 : 3. They admitted C as a new partner. The new profit sharing ratio
between A, B and C was 3 : 2 : 3. A surrendered 1/5 th of his share in favour of C. Calculate B’s sacrifice.
 

Click Here to Download

CBSE Class-12 Exam 2017 :  Accountancy (Set-2) 

लेखाशास्त्र
ACCOUNTANCY
निर्धारित समय : ३ घण्टे 
Time allowed : 3 hours
अधिकतम अंक : ८०
Maximum Marks : 80
 
खण्ड क
(साझेदारी फर्मों तथा कम्पनियों के लिए लेखांकन)
PART A
(Accounting for Partnership Firms and Companies)
 
१. दुर्गा तथा नरेश एक फर्म में साझेदार थे । वे पाँच नये सदस्यों को फर्म में प्रवेश देना चाहते थे । नाबालिगों के अतिरिक्त व्यक्तियों की ऐसी किन्हीं दो श्रेणियों की सूची बनाइए जिन्हें वे फर्म में प्रवेश नहीं दे सकते । १
Durga and Naresh were partners in a firm. They wanted to admit five more members in the firm. List any two categories of individuals other than minors who cannot be admitted by them.
 
२. जैड लिमिटेड ने rs. १० प्रत्येक के १,००० समता अंशों का rs.२ प्रति अंश की प्रथम याचना का भुगतान न करने पर हरण कर लिया । rs.३ प्रति अंश की अन्तिम याचना अभी माँगी जानी
थी । बट्टे की उस अधिकतम राशि की गणना कीजिए जिस पर इन अंशों का पुन:निर्गन किया जा सकता है । १
Z Ltd. forfeited 1,000 equity shares of Rs.10 each for the non-payment of the first call of Rs. 2 per share. The final call of Rs. 3 per share was yet to be
made. Calculate the maximum amount of discount at which these shares can be reissued.
 
३. एक्स लिमिटेड ने < १०० प्रत्येक के ५००, १२% ॠणपत्रों को ५% के बट्टे पर निर्गन के लिए आवेदन आमन्त्रित किए । इन ॠणपत्रों का शोधन तीन वर्षों पश्चात् सममूल्य पर करना था । ६०० ॠणपत्रों के लिए आवेदन प्राप्त हुए । सभी आवेदकों को आनुपातिक आधार पर निर्गन कर दिया गया ।
यह मानते हुए कि सभी राशि का भुगतान आवेदन पर करना था, ॠणपत्रों के निर्गन के लिए आवश्यक रोजनामचा प्रविष्टियाँ कीजिए । १
X Ltd. invited applications for issuing 500, 12% debentures of Rs. 100 each at a discount of 5%. These debentures were redeemable after three years
at par. Applications for 600 debentures were received. Pro-rata allotment was made to all the applicants. Pass necessary journal entries for the issue of debentures assuming that the whole amount was payable with application.
 

Click Here to Download

CBSE Class-12 Exam 2017 :  Accountancy (Set-3) 

लेखाशास्त्र
ACCOUNTANCY
निर्धारित समय : ३ घण्टे 
Time allowed : 3 hours
अधिकतम अंक : ८०
Maximum Marks : 80
 
खण्ड क
(साझेदारी फर्मों तथा कम्पनियों के लिए लेखांकन)
PART A
(Accounting for Partnership Firms and Companies)
 
१. पी तथा क्यू एक फर्म में साझेदार थे तथा लाभ-हानि बराबर बाँटते थे । उनकी स्थायी पूँजियाँ क्रमश: rs २,००,००० तथा rs ३,००,००० थीं । साझेदारी संलेख में पूँजी पर १२% प्रति वर्ष
ब्याज का प्रावधान था । ३१ मार्च, २०१६ को समाप्त हुए वर्ष के लिए पूँजी पर ब्याज दिए बिना फर्म के लाभ का बँटवारा कर दिया गया । १
त्रुटि के शोधन के लिए आवश्यक समायोजन प्रविष्टि दीजिए ।
P and Q were partners in a firm sharing profits and losses equally. Their fixed capitals were rs 2,00,000 and rs 3,00,000 respectively. The
partnership deed provided for interest on capital @ 12% per annum. For the year ended 31st March, 2016, the profits of the firm were distributed
without providing interest on capital. Pass necessary adjustment entry to rectify the error.
 
२. एक्स लिमिटेड ने  rs १०० प्रत्येक के ५००, १२% ॠणपत्रों को ५% के बट्टे पर निर्गन के लिए आवेदन आमन्त्रित किए । इन ॠणपत्रों का शोधन तीन वर्षों पश्चात् सममूल्य पर करना था । ६०० ॠणपत्रों के लिए आवेदन प्राप्त हुए । सभी आवेदकों को आनुपातिक आधार पर निर्गन कर दिया गया । यह मानते हुए कि सभी राशि का भुगतान आवेदन पर करना था, ॠणपत्रों के निर्गन के लिए आवश्यक रोजनामचा प्रविष्टियाँ कीजिए ।
X Ltd. invited applications for issuing 500, 12% debentures of < 100 each at a discount of 5%. These debentures were redeemable after three years
at par. Applications for 600 debentures were received. Pro-rata allotment was made to all the applicants. Pass necessary journal entries for the issue of debentures assuming that the whole amount was payable with application.
 

Click Here to Download

Courtesy: CBSE