CBSE Class-10 Exam 2018 : Marking Scheme, Hindi (Course A - B)

Disclaimer: This website is not at associated with CBSE, For official website of CBSE visit - www.cbse.nic.in


CBSE Class-10 Exam 2018 : Marking Scheme

Question Paper, Hindi (Course A-B)


CBSE Class-10 Exam 2018 : Hindi (Course A)

सेकेंडरी स्कूल परीक्षा
मार्च - 2018
अंक-योजना - हिंदी ;‘अ’ कोड संख्या 3/1, 2, 3

सामान्य निर्देश: मूल्यांकन करते समय कृपया निम्नलिखित निर्देशों के प्रति सावधनी बरतिए।

विशेष निर्देश:

माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार परीक्षार्थी तय शुल्क देकर उत्तर-पुस्तिका की फोटोकापी प्राप्त कर सकते हैं। परीक्षक यह सुनिश्चित करें कि उन्हें प्रत्येक प्रश्न की अंक
योजना के अनुसार ही उत्तर का मूल्यांकन करना है।

1. परीक्षकों के साथ जब तक प्रथम दिन वैयक्तिक अथवा सामूहिक रूप से अंक-योजना पर भली-भाँति विचार-विनिमय नहीं हो जाता तब तक मूल्यांकन आरंभ न कराया जाए।

2. अंक योजना का उद्देश्य मूल्यांकन को अधिकाधिक वस्तुनिष्ठ बनाना है। अंक-योजना में दिए गए उत्तर-बिंदु अंतिम नहीं हैं। ये सुझावात्मक एवं सांकेतिक हैं। यदि परीक्षार्थी ने इनसे
भिन्न, किंतु उपयुक्त उत्तर दिए हैं तो उसे उपयुक्त अंक दिए जाएँ।

3. मूल्यांकन-कार्य अपनी निजी व्याख्या के अनुसार नहीं, बल्कि अंक-योजना में निर्दिष्ट निर्देशानुसार ही किया जाए।

4. प्रश्न के उपभागों के उत्तरों पर र्दाइं ओर अंक दिए जाएँ, बाद में उपभागों के इन अंकों के योग को र्बाइं ओर हाशिये में लिखकर उसे गोलाकृत कर दिया जाए।

5. यदि प्रश्न का कोई उपभाग नहीं है तो उस पर बाईं ओर ही अंक दिए जाएँ।

6. यदि परीक्षार्थी ने किसी प्रश्न का उत्तर दो स्थानों पर भी लिख दिया है और किसी को काटा नहीं हैं तो जहाँ उत्तर अध्कि अच्छा लिखा गया है, उस पर अंक दें और दूसरे को काट दें।

7. प्रश्नों के उत्तर यदि बिंदुओं में अपेक्षित हो, और परीक्षार्थी अपेक्षा से अध्कि बिंदुओं का उल्लेख करे तो सही बिंदु / बिंदुओं पर अंक दें और शेष / अनुपयुक्त बिंदुओं को काट दें।

8. एक ही प्रकार की अशुद्धि पर अंक न काटें।

9. शब्द-सीमा से अध्कि शब्द होने पर भी अंक न काटे जाएँ।

10. प्रायः यह प्रवृत्ति देखी जाती है कि परीक्षक सहानुभूति में 30% अंक प्राप्त करने वाले परीक्षार्थी को 33% अंक देकर उत्तीर्ण कर देते हैं, या कहीं एक अंक केवल इस आधर पर काट लेते हैं कि पूरे अंक नहीं दिए जा सकते। यहाँ यह ध्यान रखना होगा कि मूल्यांकन में संपूर्ण अंक पैमाने - 0 से 80 का प्रयोग अभीष्ट है अर्थात् परीक्षार्थी ने यदि सभी अपेक्षित उत्तर-बिंदुओं का उल्लेख किया है तो उसे पूरे 80 अंक भी दिए जा सकते हैं।

11. उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करते समय यदि कोई उत्तर पूर्णतः गलत मिलता है तो उस उत्तर पर गलत (X) चिह्नित कर शून्य (0) अंक दिए जाएँ।

Click Here to Download Full paper

CBSE Class-10 Exam 2018 : Hindi (Course B)

सेकेंडरी स्कूल परीक्षा
मार्च - 2018
अंक-योजना - हिंदी ;‘अ’ कोड संख्या 4/1, 4/2, 4/3

सामान्य निर्देश: मूल्यांकन करते समय कृपया निम्नलिखित निर्देशों के प्रति सावधनी बरतिए।

विशेष निर्देश:

माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेशानुसार परीक्षार्थी तय शुल्क देकर उत्तर-पुस्तिका की फोटोकापी प्राप्त कर सकते हैं। परीक्षक यह सुनिश्चित करें कि उन्हें प्रत्येक प्रश्न की अंक
योजना के अनुसार ही उत्तर का मूल्यांकन करना है।

1. परीक्षकों के साथ जब तक प्रथम दिन वैयक्तिक अथवा सामूहिक रूप से अंक-योजना पर भली-भाँति विचार-विनिमय नहीं हो जाता तब तक मूल्यांकन आरंभ न कराया जाए।

2. अंक योजना का उद्देश्य मूल्यांकन को अधिकाधिक वस्तुनिष्ठ बनाना है। अंक-योजना में दिए गए उत्तर-बिंदु अंतिम नहीं हैं। ये सुझावात्मक एवं सांकेतिक हैं। यदि परीक्षार्थी ने इनसे
भिन्न, किंतु उपयुक्त उत्तर दिए हैं तो उसे उपयुक्त अंक दिए जाएँ।

3. मूल्यांकन-कार्य अपनी निजी व्याख्या के अनुसार नहीं, बल्कि अंक-योजना में निर्दिष्ट निर्देशानुसार ही किया जाए।

4. प्रश्न के उपभागों के उत्तरों पर र्दाइं ओर अंक दिए जाएँ, बाद में उपभागों के इन अंकों के योग को र्बाइं ओर हाशिये में लिखकर उसे गोलाकृत कर दिया जाए।

5. यदि प्रश्न का कोई उपभाग नहीं है तो उस पर बाईं ओर ही अंक दिए जाएँ।

6. यदि परीक्षार्थी ने किसी प्रश्न का उत्तर दो स्थानों पर भी लिख दिया है और किसी को काटा नहीं हैं तो जहाँ उत्तर अध्कि अच्छा लिखा गया है, उस पर अंक दें और दूसरे को काट दें।

7. प्रश्नों के उत्तर यदि बिंदुओं में अपेक्षित हो, और परीक्षार्थी अपेक्षा से अध्कि बिंदुओं का उल्लेख करे तो सही बिंदु / बिंदुओं पर अंक दें और शेष / अनुपयुक्त बिंदुओं को काट दें।

8. एक ही प्रकार की अशुद्धि पर अंक न काटें।

9. शब्द-सीमा से अध्कि शब्द होने पर भी अंक न काटे जाएँ।

10. प्रायः यह प्रवृत्ति देखी जाती है कि परीक्षक सहानुभूति में 30% अंक प्राप्त करने वाले परीक्षार्थी को 33% अंक देकर उत्तीर्ण कर देते हैं, या कहीं एक अंक केवल इस आधर पर काट लेते हैं कि पूरे अंक नहीं दिए जा सकते। यहाँ यह ध्यान रखना होगा कि मूल्यांकन में संपूर्ण अंक पैमाने - 0 से 80 का प्रयोग अभीष्ट है अर्थात् परीक्षार्थी ने यदि सभी अपेक्षित उत्तर-बिंदुओं का उल्लेख किया है तो उसे पूरे 80 अंक भी दिए जा सकते हैं।

11. उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करते समय यदि कोई उत्तर पूर्णतः गलत मिलता है तो उस उत्तर पर गलत (X) चिह्नित कर शून्य (0) अंक दिए जाएँ।

Click Here to Download Full paper

Courtesy: CBSE

Disclaimer: This website is not at associated with CBSE, For official website of CBSE visit - www.cbse.nic.in

NEW!  Sample Papers Books : Class-X, Class-XII